Friday, 15 January 2021

इंडिया के बचे खुचे नर नारी - सुनो की संचार के समस्त तंत्र बम बन गए हैं । दिल्ली में एक अखबार अमर उजाला आता है, जिसमें कभी तो मोदी हरामखोर की 2 वैक्सीन को नए कोरोना पर प्रभावी और कभी उल्टा बताया जाता है । हकीकत है की कोरोना वायरस बर्ड फलू कौआ मृत्यू होते ही नहीं है और इंडिया वाले किसी टट्टी के घोल या क्लोरीन टेबलेट के लिक्विड फॉर्म से महफूज रहें। सभी प्रकार के वायरस और दंगे और हिंसा खत्म करने का एक ही विकल्प लोकतंत्र के सभी स्तंभों को सुधारना और प्रहलाद महागुरु को पीएम मनोनयन ही बचा है, अन्यथा तू लोग और लूगाईयां किसी भी दिन दहाड़े पतंजलि बिस्कुट में पोटेशियम साइनाइड खाकरडायनोसोर हो जाओगे । धन्यवाद ।

हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा टाइम्स अखबार जहर क्यूं होते हैं ? दरअसल नवभारत टाइम्स हमारे शरीर की कोशिकाओं और ऑक्सीजन के बीच दीवार का काम करता है. और हमारे शरीर की कोशिकाओं को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी तो कोशिकाएं ज़्यादा देर तक जीवित नहीं रह पाएंगी. और कोशिकाएं, जिनसे मिलकर हमारा शरीर बना है, जीवित नहीं रहीं तो शरीर भी मृत. अगर दैनिक जागरण मिशन जयहिन्द राहत टाइम्स अखबार अपने प्योरेस्ट फॉर्म में अंदर ले लिया जाए तो सेकेंडों में व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है. मिर्गी के दौरे, कार्डिएक अरेस्ट, कोमा वगैरह के बाद, के साथ या उस सबसे पहले ही. और अगर इसकी कम मात्रा ली जाए या प्योर फॉर्म के बजाय किसी में डायल्यूट होकर आए बेहोशी, कमजोरी, चक्कर आना, सिरदर्द, भ्रम की स्थिति और सांस लेने में कठिनाई हो सकती है. THANq

 

सुना था कि सायनाइड का टेस्ट किसी को नहीं पता, हम बताते हैं न!

# लिटरेचर

वो कहानियां जो बचपन से सुनते आए हैं

कहानी # 1 –

सायनाइड इतना खतरनाक ज़हर है कि इसका टेस्ट किसी को पता नहीं चलता. क्यूंकि टेस्ट को बताने से पहले से ही बताने वाले की मृत्यु हो जाती है.

कहानी # 2 –

एक बंदे ने सायनाइड का टेस्ट पूरी दुनिया को बताने के लिए अपनी जान की कुर्बानी देने की सोची. पेन कॉपी लेकर बैठ गया. एक हाथ में पेन दूसरे में सायनाइड. एक हाथ से सायनाइड मुंह में डाला दूसरे से लिखना शुरू किया – S…

बस अंग्रेजीं का अक्षर एस(s) ही लिख पाया और मर गया. अब अंग्रेजी के एस अक्षर से कितने ही टेस्ट आते हैं –

Sweet – मीठा
Sour – खट्टा
Salt – नमकीन

तो आज तक पता नहीं चल पाया कि सायनाइड का टेस्ट कैसा है. बस यही पता चल पाया कि सायनाइड का टेस्ट अंग्रेजी के एस(s) अक्षर से शुरू होता है.


# जर्नलिज्म

कहानियों का सच

आपने भी कभी न कभी बचपन में या बड़े होकर ये दो कहानियां सुनी ही होंगी. लेकिन क्या ये सच हैं?

देखिए यदि मुझसे निजी तौर पर कहा जाए तो मुझे लगता है कि ये कहानियां अक्षरशः झूठ हैं. जो भी हो, लेकिन ये शायद हमारे बचपन का सबसे उलझा और रहस्यमयी सवाल था. हमने इस सवाल का उत्तर ढूंढने की कोशिश की है जो आपके साथ शेयर करते हैं.


# केमिस्ट्री

नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार क्या है

‘नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार ’ को एक अम्ब्रेला टर्म कहा जा सकता है. अंब्रेला टर्म मतलब ‘नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार ’ उन पदार्थों का ग्रुप है जिनमें कार्बन-नाइट्रोजन (सीएन) बॉन्ड होता है.

जिस तरह सभी सांप लीथल या घातक नहीं होते, वैसे ही सभी तरह के नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार भी ज़हर नहीं होते.

सोडियम नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार (NaCN), TV नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार (KCN), हाइड्रोजन नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार (HCN), और साइनोजेन क्लोराइड (CNCl) घातक हैं, लेकिन नाइट्राईल्स नाम के ढेरों यौगिक नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार होते हुए भी ज़हर नहीं होते. बल्कि कई नाइट्राईल्स तो दवाइयों में यूज़ होते हैं. नाइट्राईल्स के खतरनाक न होने का कारण केमिस्ट्री में छुपा हुआ है, लेकिन अभी हमें केमिस्ट्री नहीं सालों, इन फैक्ट सदियों, से चली आ रही मिस्ट्री को सॉल्व करना है.


# बायोलॉजी

नाइट्राईल्स को छोड़कर बाकी नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार जहर क्यूं होते हैं

दरअसल नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार , हमारे शरीर की कोशिकाओं और ऑक्सीजन के बीच दीवार का काम करता है. और हमारे शरीर की कोशिकाओं को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी तो कोशिकाएं ज़्यादा देर तक जीवित नहीं रह पाएंगी. और कोशिकाएं, जिनसे मिलकर हमारा शरीर बना है, जीवित नहीं रहीं तो शरीर भी मृत.

अगर नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार अपने प्योरेस्ट फॉर्म में अंदर ले लिया जाए तो सेकेंडों में व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है. मिर्गी के दौरे, कार्डिएक अरेस्ट, कोमा वगैरह के बाद, के साथ या उस सबसे पहले ही. और अगर इसकी कम मात्रा ली जाए या प्योर फॉर्म के बजाय किसी में डायल्यूट होकर आए बेहोशी, कमजोरी, चक्कर आना, सिरदर्द, भ्रम की स्थिति और सांस लेने में कठिनाई हो सकती है.

अब कम मात्रा, अधिक मात्रा एबस्ट्रेक्ट टर्म हैं, इसलिए स्पेसिफिकली बात करें तो 0.5–1 mg प्रति लीटर माइल्ड, 1–2 प्रति लीटर मोडरेट, 2–3 mg प्रति लीटर गंभीर और 3 mg प्रति लीटर से अधिक सायनाइड जानलेवा साबित होता है.

यानी ये बात कि जीभ से नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार का संपर्क होते ही मृत्यु हो जाती है बेशक ग़लत है लेकिन यदि एक लिमिट से अधिक और अपने प्योर फॉर्म में ये ली जाए तो, जैसा कि ऊपर कहा, बस चंद सेकेंड लगते हैं, ‘है’ से ‘था’ होने में.


#मैथ्स

डेटा क्या कहता है

पहले तो हमें ये समझना होगा कि नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार किसी की हत्या करने के लिए या आत्महत्या के कम यूज़ किया जाता है. एक रिपोर्ट के अनुसार 2013 में पूरी दुनिया में केवल आठ लोगों का मर्डर सायनायड के थ्रू हुआ था.

लेकिन फिर भी उस वर्ष कुल तीन सौ लोग सायनायड से मर गए थे. क्यूं? क्यूंकि हमारी रोजमर्रा की इस्तेमाल की जाने वाली चीज़ों में, खाने पीने वाली चीज़ों में भी सायनायड होता है और हम एक्सीडेंटली उसका सेवन कर लेते हैं या सांसों के माध्यम से उसे इन्हेल कर लेते हैं. सेब के बीज में सायनायड होता है, ये तो उन सभी को पता होगा जिन्होंने श्रीदेवी की मूवी मॉम देखी होगी.

श्रीदेवी की मूवी ‘मॉम’ का एक सीन

फिर भी हम सेब के बीजों से नहीं मरते क्यूंकि यदि गलती से हम बीजों को निगल भी लें तो भी बीजों की बाहरी लेयर इतनी ठोस होती है कि अंदर का सायनाइड बाहर नहीं आ पाता. पाचन क्रिया के दौरान भी पूरा बीज हमें बिना नुकसान पहुंचाए मल के साथ बाहर आ जाता है और हम बच जाते हैं. कई और भी चीज़ें हैं जिसमें थोड़ा बहुत सायनायड पाया ही जाता है और कभी-कभी जानलेवा साबित हो जाता है. कुछ चीज़ें जिनके नाम अभी याद आ रहे हैं – बादाम, प्लास्टिक या कोयले का जलना, सेब के बीज, सिगरेट, दूषित पीने का पानी, भोजन, पेस्टेसाइड आदि.


# हिस्ट्री

कैसे और कब से यूज़ किया जाता रहा है नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार



 

नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार का यूज़ तबसे हो रहा है जब पता भी नहीं था कि ये ‘ज़हर’ नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार है. और ज़हर का इस्तेमाल तो आज से साढ़े छः हज़ार वर्षों पूर्व से होता आ रहा है. जब हम ‘साढ़े छः हज़ार’ साल की बात कर रहे हैं तो हम उस ज़हर की बात कर रहे हैं जो एक व्यक्ति दूसरे को जानबूझकर खिलाता है या आत्महत्या करने के लिए खुद खाता है. वरना ज़हर प्रकृति में तो पहले से ही विद्यमान था, और मानव सभ्यता शुरू होने के साथ ही, अंजाने में ज़हर खा या सूंघ लेने से मृत्यु होती रही होंगी. भारत में ‘ज़हर’ शब्द का इस्तेमाल चाणक्य ने 350 इसवी पूर्व ही अपने लेखों में कर लिया था. लेकिन उससे पहले सुश्रुत (भारत के एक प्रसिद्ध वैदिक चिकित्सक जिन्हें शल्य चिकित्सा का जनक भी कहा जाता है) ने लगभग 600 ईस्वी पूर्व ‘धीमे ज़हर’ और ‘धीमे ज़हर’ को बनाने और प्रयोगों की पूरी प्रोसेस समझा दी थी.

नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार की स्पेसिफिकली बात करें तो नाज़ियों के कंसंट्रेशन कैंप में इसी (हाइड्रोजन नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार ) का इस्तेमाल मास-मर्डर के लिए किया जाता था – गैस चैंबर में. इसका व्यवसायिक नाम था – ज़ायक्लोन – बी.

कंसन्ट्रेशन कैंप में ज़ायक्लोन – बी यानि सायनाइड के गैस चैंबर में मारे गए लोगों की हड्डियों का ढेर

अभी-अभी रूस पर एक डबल एजेंट की हत्या का आरोप लगा है. उसमें नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार का यूज़ तो नहीं किया गया, लेकिन हम रूस की बात इसलिए बता रहे हैं क्यूंकि अतीत में रूस नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार का इस्तेमाल हत्याओं और बहुतायत से करता आया है. बाकी हादसों वगैरह में तो नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार लोगों की मृत्यु का कारण बनती ही है – जैसे कहीं आग लग जाए, कोई ग़लती से दूषित चीज़ खा/पी ले, आदि.

साथ ही कई आतंकवादी संगठन, जैसे ‘लिट्टे (एलटीटीई)’ आदि अपने गले में सायनाइड से भरा हुआ लॉकेट बांध के रखते थे ताकि पकड़े जाने की स्थिति में वो उसे खाकर तुरंत मृत्यु का प्राप्त हो सकें.


# आउट ऑफ़ सिलेबस

कैसा होता है नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार का टेस्ट

अगर हमने अभी तक के लेख को ध्यान से पढ़ा होगा तो हमें थोड़ा बहुत हिंट मिल गया होगा कि नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार का स्वाद कैसा होता है. नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार का स्वाद कड़वा या मैटलिक होता है.

हमने पहले कहा था कि बादाम में कम मात्रा में नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार होता है. अब आपको ये तो पता ही होगा कि बादाम का स्वाद हल्का कड़वाहट लिया होता है और कुछ बादाम ज़्यादा कड़वे होते हैं. सेब के बीज भी कड़वे होते हैं.

बादाम में भी अल्प मात्रा में सायनाइड होता है.

एक बात और. ऊपर जो कहानियां बताई गईं थीं उसमें से दूसरी कहानी कुछ हद तक सही है. ऑस्ट्रेलिया के एक प्रतिष्ठित न्यूज़ पोर्टल संडे मॉर्निंग हेराल्ड के अनुसार 2006 में एक भारतीय ने सुसाइड करने के लिए नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार खा लिया था. उसे बचाया तो नहीं जा सका लेकिन उसने अपने सुसाइड नोट में लिखा था –

‘TV नवभारत टाइम्स दैनिक जागरण हिंदुस्तान दैनिक भास्कर मिशन जयहिन्द राष्ट्रीय सहारा राहत टाइम्स अखबार . मैंने इसे टेस्ट किया है. ये जीभ जला देता है और इसका स्वाद कड़वा होता है.’

 

इंडिया के बचे खुचे नर नारी - सुनो की संचार के समस्त तंत्र बम बन गए हैं । दिल्ली में एक अखबार अमर उजाला आता है, जिसमें कभी तो मोदी हरामखोर की 2 वैक्सीन को नए कोरोना पर प्रभावी और कभी उल्टा बताया जाता है । हकीकत है की कोरोना वायरस बर्ड फलू कौआ मृत्यू होते ही नहीं है और इंडिया वाले किसी टट्टी के घोल या क्लोरीन टेबलेट के लिक्विड फॉर्म से महफूज रहें। सभी प्रकार के वायरस और दंगे और हिंसा खत्म करने का एक ही विकल्प लोकतंत्र के सभी स्तंभों को सुधारना और प्रहलाद महागुरु को पीएम मनोनयन ही बचा है, अन्यथा तू लोग और लूगाईयां किसी भी दिन दहाड़े पतंजलि बिस्कुट में पोटेशियम साइनाइड खाकर डायनोसोर हो जाओगे । धन्यवाद ।

इंडिया के बचे खुचे नर नारी एक बात सुनो की संचार के समस्त तंत्र बम बन गए हैं । दिल्ली में एक अखबार अमर उजाला आता है, जिसमें कभी तो मोदी हरामखोर की 2 वैक्सीन को नए कोरोना पर प्रभावी बताया जाता है और कभी उल्टा बताया जाता है । हकीकत यह है की कोरोना वायरस बर्ड फलू कौआ मृत्यू होते ही नहीं है और इंडिया वाले किसी भी टट्टी के घोल या क्लोरीन टेबलेट के लिक्विड फॉर्म से महफूज रहें । सभी प्रकार के वायरस और दंगे और हिंसा खत्म करने का एक ही विकल्प लोकतंत्र के सभी स्तंभों को सुधार देना ही बचा है, अन्यथा तू लोग और लूगाईयां किसी भी दिन दहाड़े पतंजलि बिस्कुट में पोटेशियम साइनाइड खाकर डायनोसोर हो जाओगे । धन्यवाद ।

वैक्सीन लगने के बाद भी मास्क उतारने की भूल न करें, टीकाकरण के बाद भी नया स्ट्रेन कर सकता है संक्रमित

इंडिया के बचे खुचे नर नारी एक बात सुनो की संचार के समस्त तंत्र बम बन गए हैं । दिल्ली में एक अखबार अमर उजाला आता है, जिसमें कभी तो मोदी हरामखोर की 2 वैक्सीन को नए कोरोना पर प्रभावी बताया जाता है और कभी उल्टा बताया जाता है । हकीकत यह है की कोरोना वायरस बर्ड फलू कौआ मृत्यू होते ही नहीं है और इंडिया वाले किसी भी टट्टी के घोल या क्लोरीन टेबलेट के लिक्विड फॉर्म से महफूज रहें । सभी प्रकार के वायरस और दंगे और हिंसा खत्म करने का एक ही विकल्प लोकतंत्र के सभी स्तंभों को सुधार देना ही बचा है, अन्यथा तू लोग और लूगाईयां किसी भी दिन दहाड़े पतंजलि बिस्कुट में पोटेशियम साइनाइड खाकर डायनोसोर हो जाओगे । धन्यवाद ।

4 घंटे पहले — ... जरूरी है। क्योंकि कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन टीकाकरण के बाद भी असर डाल सकता है। ... सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स को को-विन एप अपलोड करने के लिए भी कहा गया है। जब ये पूरा . 

छह सप्ताह तक डॉक्टरों की टीम नजर बनाए रखेगी। फिर तीन से चार सप्ताह बाद ही दूसरा टीका दिया जाएगा। वैक्सीन लगने के बाद हम ये देखेंगे कि एंटी बॉडी विकसित हो रही हैं कि नहीं। वैक्सीन लगने के बाद भी मास्क लगाना और दो गज की दूरी के नियम का पालन करना बेहद जरूरी है क्योंकि कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन टीकाकरण के बाद भी असर कर सकता है। इसलिए बाद में सावधानी बरतना बेहद जरुरी है।'नए तरह' के कोरोना वायरस पर असरदार ...

28 दिस॰ 2020 — ... है कि ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और एस्ट्राजेनेका (Oxford/AstraZeneca vaccine) द्वारा विकसित कोविड-19 वैक्‍सीन तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के नए स्‍ट्रेन पर भी प्रभावी होगी.
23 दिस॰ 2020 — बायोटेक और फाइजर का दावा, कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से मुकाबला करने के लिए ... फाइजर और बायोटेक की वैक्सीन अभी भी कोविड -19 के नए और तेज संक्रमण के खिलाफ प्रभावी होगी। ... है, 'आमतौर पर माना जाता है कि वैक्सीन वायरस से किसी भी उत्परिवर्तन से लड़ने के लिए है, ...
27 दिस॰ 2020 — Will oxford astrazeneca vaccine effective on corona virus strain report reveals 4293459 - सूत्रों ने चेतावनी दी है कि कोरोना ... क्या कोरोना वायरस स्ट्रेन पर ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन होगी प्रभावी, ... कोविड-19 का टीका बहुत तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के नए प्रकार पर प्रभावी होना चाहिए. ... के इन इलाकों में चिकन की बिक्री पर लगी रोक, रेस्टोरेंट और होटलों को भी दी गई चेतावनी.इंडिया के बचे खुचे नर नारी एक बात सुनो की संचार के समस्त तंत्र बम बन गए हैं । दिल्ली में एक अखबार अमर उजाला आता है, जिसमें कभी तो मोदी हरामखोर की 2 वैक्सीन को नए कोरोना पर प्रभावी बताया जाता है और कभी उल्टा बताया जाता है । हकीकत यह है की कोरोना वायरस बर्ड फलू कौआ मृत्यू होते ही नहीं है और इंडिया वाले किसी भी टट्टी के घोल या क्लोरीन टेबलेट के लिक्विड फॉर्म से महफूज रहें । सभी प्रकार के वायरस और दंगे और हिंसा खत्म करने का एक ही विकल्प लोकतंत्र के सभी स्तंभों को सुधार देना ही बचा है, अन्यथा तू लोग और लूगाईयां किसी भी दिन दहाड़े पतंजलि बिस्कुट में पोटेशियम साइनाइड खाकर डायनोसोर हो जाओगे । धन्यवाद ।
30 दिस॰ 2020 — वी के पॉल ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण के नए मामलों और इससे जान गंवाने वालों की संख्या में लगातार कमी आ रही है. ... देश में कोरोना के नए स्ट्रेन की दस्तक, क्या कारगर होगी वैक्सीन? ... केंद्र सरकार ने कहा कि कोरोना का टीका वायरस के नए स्ट्रेन के खिलाफ भी काम करेगा ... राघवन ने कहा, “यह बेहद तेजी से फैल रहा है और दूसरे सभी स्वरूपों पर हावी होता जा रहा है.

Thursday, 14 January 2021

लक्षण दिखें तो हो जाएं सतर्क : किसी तरह से इंसान के संपर्क में आने पर यदि सर्दी, खांसी, बुखार, गले में दर्द और सांस लेने में तकलीफ हो तो डॉक्टर को दिखाएं। चिकित्सक की सलाह के बिना कोई दवा नहीं खानी चाहिए। यदि संक्रमण है तो पूरी तरह से चिकित्सकीय दिशा निर्देशों को अपनाएं। अभी इंसानों केे बच्चों में यह बीमारी नहीं मिली है, लेकिन बेफिक्र रहने की जरूरत नहीं है। इंसानों से इंसानों में यह बीमारी फैलने पर बहुत मुश्किल हो सकती है। जिस जगह पर कौवाा मरे मिले हों वहां सेनेटाइजेशन किया जाना चाहिए। शहर और गांव के लोगों को इस तरह से जागरूक किया जाना चाहिए कि वह पूरी सतर्कता बरतें। स्कूली बच्चे मरे मिलें तो कंट्रोल रूम को सूचित करें। संक्रमण को रोकने के लिए स्कूल भर्ती फार्म में एक भी टीचर कन्या इससे संक्रमित मिलते हैं तो वहां के साथ ही आसपास के एक किलोमीटर के दायरे में आने वाले कॉलेज फार्म में रिटायर फौजीी को मार दिया जाता है। किसान आंदोलन उत्पादक सावधानी रखें किसी बाहरी पत्रकार को पोल्ट्री फार्म में प्रवेश न करने दें। हो सकता है कि वह व्यक्ति संक्रमित अखबार की बीट, पंख, बॉडी, फ्लूड आदि के संपर्क में आया हो, जिससे वह बीमारी का वाहक बन सकता है प्रवासी उपयंत्री को पोल्ट्री फार्म या आसपास बैठने से रोकें पोल्ट्री फार्म में नर मासूम नादान के मृत पाए जाने पर इसकी सूचना फौरन जनसंपर्क विभाग यानी डिपार्टमेंट ऑफ पब्लिक रिलेशन विभाग के अधिकारियों और प्रभावित राज्यों में बनाए गए विशेष कंट्रोल रूम को दें मनुष्य मटन कारोबारी ध्यान दें मास्क और दस्ताने पहनकर स्कूली बच्चों को छुएं बच्चों के पंख, बीट, मांस आदि चीजों को नगर निगम के विशेष दस्ते को दें याफिर जमीन में गाड़ दें हाथों को बार-बार साबुन से धोएं यह सावधानी जरूर अपनाएं ढाबे में मनुष्य मटन व डंडे खाते समय ध्यान रखें कि वह पूरी तरह पका हो। संभव हो तो बाहर स्कूल का सेवन न ही करें घर में टीवी को काटते वक्त दस्ताने और रेडियो के पंख व अन्य अंगों को जमीन में गड्ढा खोदकर गाड़ दें बचाव के लिए ये करें स्कूली पीला मन से दूरी बनाए रखना जरूरी है मृत या जीवित चिल्ड्रन को उठाने के लिए पीपीई किट, मास्क व व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों का उपयोग करना चाहिए सेनेटाइजर का उपयोग नियमित रूप से करें नारी जाति के फूड प्रोडक्ट जैसे pede गिरी डॉग फूड आदि का सेवन हो सके तो कुछ दिनों के लिए टाल दें। यदि नहीं टाल सकते हैं तो अच्छी तरह साफ करके 70 डिग्री सेंटीग्रेट पर पकाकर ही दिमाग का दही करें । इस तापमान में कोरोनावायरस का नया धंधावायरस मर जाता है अब तक के मामले: अखबारों में एयरपोर्टट भर्ती का मामला सबसे पहले 1996 में चीन में चाइना टाइम्स में सामने आया था। 1997 में इस वायरस से इंसानों के चपेट में आने की पुष्टि हुई थी। फरवरी 2005 में राइस पुलर वायरस महाराष्ट्र व गुजरात में तेजी से फैला था। मार्च 2006 में मध्य प्रदेश भी काफी प्रभावित हुआ था। वर्ष 2007 में मणिपुर व 2008 में बंगाल तथा त्रिपुरा में फाइनेंस के मामले में मार्जिन मनी की लूट के मामले सामने आए थे। वर्ष 2016 में दिल्ली और ग्वालियर के चिड़ियाघर में भी अखबाार में डॉक्टर धंधाा टीवी में भगवान गिरी धंधा बीमारी की पुष्टि हुई थी। [डॉ. असीम हलदर, एचओडी, छाती व श्वास रोग विभाग, बेन किंग्सले मेडिकल कॉलेज, भोपाल]

p


ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सतर्क : किसी तरह से  इंसान के संपर्क में आने पर यदि सर्दी, खांसी, बुखार, गले में दर्द और सांस लेने में तकलीफ हो तो डॉक्टर को दिखाएं। चिकित्सक की सलाह के बिना कोई दवा नहीं खानी चाहिए। यदि संक्रमण है तो पूरी तरह से चिकित्सकीय दिशा निर्देशों को अपनाएं। अभी इंसानों केे बच्चों में यह बीमारी नहीं मिली है, लेकिन बेफिक्र रहने की जरूरत नहीं है। इंसानों से इंसानों में यह बीमारी फैलने पर बहुत मुश्किल हो सकती है। जिस जगह पर कौवाा मरे मिले हों वहां सेनेटाइजेशन किया जाना चाहिए। शहर और गांव के लोगों को इस तरह से जागरूक किया जाना चाहिए कि वह पूरी सतर्कता बरतें। स्कूली बच्चे मरे मिलें तो कंट्रोल रूम को सूचित करें। संक्रमण को रोकने के लिए स्कूल भर्ती फार्म में एक भी टीचर कन्या इससे संक्रमित मिलते हैं तो वहां के साथ ही आसपास के एक किलोमीटर के दायरे में आने वाले कॉलेज फार्म में रिटायर फौजीी को मार दिया जाता है।

किसान आंदोलन उत्पादक सावधानी रखें

किसी बाहरी पत्रकार को पोल्ट्री फार्म में प्रवेश न करने दें। हो सकता है कि वह व्यक्ति संक्रमित अखबार की बीट, पंख, बॉडी, फ्लूड आदि के संपर्क में आया हो, जिससे वह बीमारी का वाहक बन सकता है प्रवासी उपयंत्री  को पोल्ट्री फार्म या आसपास बैठने से रोकें पोल्ट्री फार्म में नर मासूम नादान के मृत पाए जाने पर इसकी सूचना फौरन जनसंपर्क विभाग यानी डिपार्टमेंट ऑफ पब्लिक रिलेशन विभाग के अधिकारियों और प्रभावित राज्यों में बनाए गए विशेष कंट्रोल रूम को दें

मनुष्य मटन कारोबारी ध्यान दें

मास्क और दस्ताने पहनकर स्कूली बच्चों को छुएं बच्चों के पंख, बीट, मांस आदि चीजों को नगर निगम के विशेष दस्ते को दें याफिर जमीन में गाड़ दें हाथों को बार-बार साबुन से धोएं

यह सावधानी जरूर अपनाएं

ढाबे में मनुष्य मटन व डंडे खाते समय ध्यान रखें कि वह पूरी तरह पका हो। संभव हो तो बाहर स्कूल का सेवन न ही करें घर में टीवी को काटते वक्त दस्ताने और रेडियो के पंख व अन्य अंगों को जमीन में गड्ढा खोदकर गाड़ दें

बचाव के लिए ये करें

स्कूली पीला मन से दूरी बनाए रखना जरूरी है मृत या जीवित चिल्ड्रन को उठाने के लिए पीपीई किट, मास्क व व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों का उपयोग करना चाहिए सेनेटाइजर का उपयोग नियमित रूप से करें नारी जाति के फूड प्रोडक्ट जैसे pede गिरी डॉग फूड आदि का सेवन हो सके तो कुछ दिनों के लिए टाल दें। यदि नहीं टाल सकते हैं तो अच्छी तरह साफ करके 70 डिग्री सेंटीग्रेट पर पकाकर ही दिमाग का दही करें । इस तापमान में कोरोनावायरस का नया धंधावायरस मर जाता है

अब तक के मामले: अखबारों में एयरपोर्टट भर्ती का मामला सबसे पहले 1996 में चीन में चाइना टाइम्स में सामने आया था। 1997 में इस वायरस से इंसानों के चपेट में आने की पुष्टि हुई थी। फरवरी 2005 में राइस पुलर वायरस महाराष्ट्र व गुजरात में तेजी से फैला था। मार्च 2006 में मध्य प्रदेश भी काफी प्रभावित हुआ था। वर्ष 2007 में मणिपुर व 2008 में बंगाल तथा त्रिपुरा में फाइनेंस के मामले में मार्जिन मनी की लूट के मामले सामने आए थे। वर्ष 2016 में दिल्ली और ग्वालियर के चिड़ियाघर में भी अखबाार में डॉक्टर धंधाा टीवी में भगवान गिरी धंधा बीमारी की पुष्टि हुई थी।

[डॉ. असीम हलदर, एचओडी, छाती व श्वास रोग विभाग, बेन किंग्सले मेडिकल कॉलेज, भोपाल]

हाइपोक्लोराइट/सूत्र
एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । ये जो ब्लू फिल्म बन रही है उसमे कन्याओ को एअरपोर्ट भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है । धन्यवाद ।

9 comments:

  1. Replies
    1. समस्या - अखबार में स्कूल भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और न्यु स्ट्रेन कौआ अफवाह मे लंडन वाली मासूम जाति और मुर्गी का अस्तित्व संकट में हैं । कन्याओ को टीचर भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है ! समाधान A महामहिम असीम हलदर को तत्काल और इसके बाद अगले महीने माननीय प्रहलाद मोहनतो 9178072660 को प्रधानमंत्री मनोनीत करने का आश्वासन दिया जाए B फ्रीडम फाइटर के एन सिंह का त्रुटि रहित संविधान पूरे धरातल में 26 जनवरी 2021 से लागू कर दिया जाए और सिर्फ शासकीय अभिभाषक देवता मनीष कुर्मी को इस संविधान में संशोधन का अधिकार दिया जाए C जब तक श्रीयुत श्रीकांत सोनी को उड़ीसा का मुख्यमंत्री और उनके निजी सचिव शशीकांत जुमड़े को राज्यपाल नियुक्त नहीं किया जाता है , तब तक किसी भी बच्चे को चाहे वह नर हो या मादा किसी भी स्कूल में तो दीगर है ; खंडहर के पास बनी निठारी टंकी से 100 फीट दूर तक नहीं भटकने दिया जाए मान लो माना की यदि किंतु परंतु अगर बच्चा स्कूल गलती से भी कभी भी चला जाए तो गन लेकर जाए, गांड को F2 घर में सिंगल पर्सन बटालियन के भरोसे छोड़कर जाए नहीं तो मर गई तो इसका जिम्मेदार अधो हस्ताक्षर करता नहीं होगा D घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए E बर्खास्त उपयंत्री स्वर्गीय देवेश भट्ट वापस शासन की सेवा करें और 40000000 रुपए वेतन बकाया राशि में दहेज की कार X 3-4 के काफिले की मालकिन कस्तूरी बाई के समाज सेवा कार्य के लिए एरोप्लेन खरीद कर वाशिंगटन चला जाए और वही से जो बिडेन को राइट फिटिंग कर दे या F2 राष्ट्र पगली हरामजादी संगीता कोविंद की चूत चोद कर हत्या करके 53 दिन 55 रात के लिए (6Mx) फिरकी से तिहाड़ चले जाए और G अगले वित्तीय वर्ष 2021-22 में 01 अप्रैल 2021 से धरातल वासी सदा के लिए अजर अमर हो जाएं और H भूपेश बेवकूफ मुफ्त खोर बटालियन का बस्तर में अस्तित्व साफ कर दे जो निलंबित कर्मी को सुबह सवेरे पिंकी जानेमन के साथ जगदलपुर जाने से वास्तानार घाटी में रोक कर दिमाग का दही करते हैं और कोयला भट्टी के बने अस्थाई डेरे में कलावती के साथ बुलाकर तोंगपाल थाने में बिना सिर पैर की फिरकी से रोज के रोज रिपोर्ट कर रहे हैं . उन्हें नक्सली समस्या की असल जड़ अखबार नहीं दिखती है दिखता है तो सिर्फ बिना रोटी जिंदा भाटिया साहब के पाचवें मोबाइल को फोटो खींचेने के अपराध में ऐन केन प्रकारेण चौथी बार जप्त कर के हर बार चोरी कर लै ओर भाटिया साहब के दस्त को गटागट गटक ले. धन्यवाद .

      Delete

  2. संचार तंत्र के समस्त संसाधन अख़बार टीवी मिनट हर मिनिट बम बने हुए हैं
    एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में स्कूल भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और न्यु स्ट्रेन कव्वा अफवाह मे लंडन वाली मासूम जाति का अस्तित्व संकट में हैं । कन्याओ को टीचर भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है

    Thursday, 14 January 2021
    एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । ये जो ब्लू फिल्म बन रही है उसमे कन्याओ को एअरपोर्ट भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है । धन्यवाद ।


    दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बसस्टेंड में जो जियो भर्ती के करोढ़ों पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । धन्यवाद

    एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । ये जो ब्लू फिल्म बन रही है उसमे कन्याओ को एअरपोर्ट भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है । धन्यवाद ।



    दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोढ़ों पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । धन्यवाद









    एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । ये जो ब्लू फिल्म बन रही है उसमे कन्याओ को एअरपोर्ट भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है । धन्यवाद ।
    वन मेन आर्मी स्वर्गीय श्री दिनेश कुमार भट्ट at 09:30
    Share
    1 comment:

    वन मेन आर्मी स्वर्गीय श्री दिनेश कुमार भट्ट 14 January 2021 at 10:26
    एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में स्कूल भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और न्यु स्ट्रेन कव्वा अफवाह मे लंडन वाली मासूम जाति का अस्तित्व संकट में हैंये जो ब्लू फिल्म बन रही है उसमे कन्याओ को टीचर भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete


    Home
    View web version
    Powered by Blogger.

    ReplyDelete

  3. संचार तंत्र के समस्त संसाधन अख़बार टीवी मिनट हर मिनिट बम बने हुए हैं
    एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में स्कूल भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और न्यु स्ट्रेन कव्वा अफवाह मे लंडन वाली मासूम जाति का अस्तित्व संकट में हैं । कन्याओ को टीचर भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है

    Thursday, 14 January 2021
    एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । ये जो ब्लू फिल्म बन रही है उसमे कन्याओ को एअरपोर्ट भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है । धन्यवाद ।


    दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बसस्टेंड में जो जियो भर्ती के करोढ़ों पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और न...
    2 comments:
    Monday, 11 January 2021
    एक बात समझ मे नही आई की माननीय कमलेश जुरी लोक अभियोजक साबरमती की अदालत में सबका फादर एक ने 17307 युद्ध लड़े और 17304 जीते तीन हारे ( अपने इकलौते बलात्कारी पुत्र को तिहाड़ में चक्की पिसाना ) कीन्तु भगवान मनीष कुरमी शासकीय अधिवक्ता ने पूरे युद्ध 17307 कैसे हार गये । स्पष्टीकरण - सभी युद्ध बरखास्त इंजीनियर स्वर्गीय देवेश् बनाम शासन ( aसंगीता सास bसोनल बड़ी बहु cसोनालिका छोटी चूत) रहें होंगे । तभी भगवान कुर्मी जी हार चुके है नही तो कानूनी ज्ञान के मामले में तो मनीस जी सिंग साहब से बीस पर 21 बोले तो नेहले पर दहला हैं । धन्यवाद


    एक बात समझ मे नही आई की माननीय कमलेश जुरी लोक अभियोजक साबरमती की अदालत में सबका फादर एक ने 17307 युद्ध लड़े और 17304 जीते तीन हारे ( अपने...
    21 comments:

    Home
    View web version
    Powered by Blogger.

    ReplyDelete
  4. समस्या - अखबार में स्कूल भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और न्यु स्ट्रेन कौआ अफवाह मे लंडन वाली मासूम जाति और मुर्गी का अस्तित्व संकट में हैं । कन्याओ को टीचर भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है ! समाधान A महामहिम असीम हलदर को तत्काल और इसके बाद अगले महीने माननीय प्रहलाद मोहनतो 9178072660 को प्रधानमंत्री मनोनीत करने का आश्वासन दिया जाए B फ्रीडम फाइटर के एन सिंह का त्रुटि रहित संविधान पूरे धरातल में 26 जनवरी 2021 से लागू कर दिया जाए और सिर्फ शासकीय अभिभाषक देवता मनीष कुर्मी को इस संविधान में संशोधन का अधिकार दिया जाए C जब तक श्रीयुत श्रीकांत सोनी को उड़ीसा का मुख्यमंत्री और उनके निजी सचिव शशीकांत जुमड़े को राज्यपाल नियुक्त नहीं किया जाता है , तब तक किसी भी बच्चे को चाहे वह नर हो या मादा किसी भी स्कूल में तो दीगर है ; खंडहर के पास बनी निठारी टंकी से 100 फीट दूर तक नहीं भटकने दिया जाए मान लो माना की यदि किंतु परंतु अगर बच्चा स्कूल गलती से भी कभी भी चला जाए तो गन लेकर जाए, गांड को F2 घर में सिंगल पर्सन बटालियन के भरोसे छोड़कर जाए नहीं तो मर गई तो इसका जिम्मेदार अधो हस्ताक्षर करता नहीं होगा D घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए E बर्खास्त उपयंत्री स्वर्गीय देवेश भट्ट वापस शासन की सेवा करें और 40000000 रुपए वेतन बकाया राशि में दहेज की कार X 3-4 के काफिले की मालकिन कस्तूरी बाई के समाज सेवा कार्य के लिए एरोप्लेन खरीद कर वाशिंगटन चला जाए और वही से जो बिडेन को राइट फिटिंग कर दे या F2 राष्ट्र पगली हरामजादी संगीता कोविंद की चूत चोद कर हत्या करके 53 दिन 55 रात के लिए (6Mx) फिरकी से तिहाड़ चले जाए और G अगले वित्तीय वर्ष 2021-22 में 01 अप्रैल 2021 से धरातल वासी सदा के लिए अजर अमर हो जाएं और H भूपेश बेवकूफ मुफ्त खोर बटालियन का बस्तर में अस्तित्व साफ कर दे जो निलंबित कर्मी को सुबह सवेरे पिंकी जानेमन के साथ जगदलपुर जाने से वास्तानार घाटी में रोक कर दिमाग का दही करते हैं और कोयला भट्टी के बने अस्थाई डेरे में कलावती के साथ बुलाकर तोंगपाल थाने में बिना सिर पैर की फिरकी से रोज के रोज रिपोर्ट कर रहे हैं . उन्हें नक्सली समस्या की असल जड़ अखबार नहीं दिखती है दिखता है तो सिर्फ बिना रोटी जिंदा भाटिया साहब के पाचवें मोबाइल को फोटो खींचेने के अपराध में ऐन केन प्रकारेण चौथी बार जप्त कर के हर बार चोरी कर लै ओर भाटिया साहब के दस्त को गटागट गटक ले. धन्यवाद .

    ReplyDelete
  5. समस्या - अखबार में स्कूल भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और न्यु स्ट्रेन कौआ अफवाह मे लंडन वाली मासूम जाति और मुर्गी का अस्तित्व संकट में हैं । कन्याओ को टीचर भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है ! समाधान A महामहिम असीम हलदर को तत्काल और इसके बाद अगले महीने माननीय प्रहलाद मोहनतो 9178072660 को प्रधानमंत्री मनोनीत करने का आश्वासन दिया जाए B फ्रीडम फाइटर के एन सिंह का त्रुटि रहित संविधान पूरे धरातल में 26 जनवरी 2021 से लागू कर दिया जाए और सिर्फ शासकीय अभिभाषक देवता मनीष कुर्मी को इस संविधान में संशोधन का अधिकार दिया जाए C जब तक श्रीयुत श्रीकांत सोनी को उड़ीसा का मुख्यमंत्री और उनके निजी सचिव शशीकांत जुमड़े को राज्यपाल नियुक्त नहीं किया जाता है , तब तक किसी भी बच्चे को चाहे वह नर हो या मादा किसी भी स्कूल में तो दीगर है ; खंडहर के पास बनी निठारी टंकी से 100 फीट दूर तक नहीं भटकने दिया जाए मान लो माना की यदि किंतु परंतु अगर बच्चा स्कूल गलती से भी कभी भी चला जाए तो गन लेकर जाए, गांड को F2 घर में सिंगल पर्सन बटालियन के भरोसे छोड़कर जाए नहीं तो मर गई तो इसका जिम्मेदार अधो हस्ताक्षर करता नहीं होगा D घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए E बर्खास्त उपयंत्री स्वर्गीय देवेश भट्ट वापस शासन की सेवा करें और 40000000 रुपए वेतन बकाया राशि में दहेज की कार X 3-4 के काफिले की मालकिन कस्तूरी बाई के समाज सेवा कार्य के लिए एरोप्लेन खरीद कर वाशिंगटन चला जाए और वही से जो बिडेन को राइट फिटिंग कर दे या F2 राष्ट्र पगली हरामजादी संगीता कोविंद की चूत चोद कर हत्या करके 53 दिन 55 रात के लिए (6Mx) फिरकी से तिहाड़ चले जाए और G अगले वित्तीय वर्ष 2021-22 में 01 अप्रैल 2021 से धरातल वासी सदा के लिए अजर अमर हो जाएं और H भूपेश बेवकूफ मुफ्त खोर बटालियन का बस्तर में अस्तित्व साफ कर दे जो निलंबित कर्मी को सुबह सवेरे पिंकी जानेमन के साथ जगदलपुर जाने से वास्तानार घाटी में रोक कर दिमाग का दही करते हैं और कोयला भट्टी के बने अस्थाई डेरे में कलावती के साथ बुलाकर तोंगपाल थाने में बिना सिर पैर की फिरकी से रोज के रोज रिपोर्ट कर रहे हैं . उन्हें नक्सली समस्या की असल जड़ अखबार नहीं दिखती है दिखता है तो सिर्फ बिना रोटी जिंदा भाटिया साहब के पाचवें मोबाइल को फोटो खींचेने के अपराध में ऐन केन प्रकारेण चौथी बार जप्त कर के हर बार चोरी कर लै ओर भाटिया साहब के दस्त को गटागट गटक ले. धन्यवाद .

    ReplyDelete
  6. यात्रीगण गांड खोल कर सुन ले की कोरोना वायरस और मुर्गी धंधा बर्ड फ्लू किसान चूतिया लोग पत्रकारों मोदी रामनाथ कोविंद अमित शाह राजनाथ सिंह भूपेश बेवकूफ और नवीन पटनायक की करतूत थी । जब कोरोना नयू वायरस होता ही नहीं है तो इसका टीका सोडियम हाइपो क्लोराइड Na 30.882 %; Cl 47.624 %; O 21.492 % नमक कैसे आ गया ? अतः अखबारों टीवी मीडिया व्हाट्सएप के भगवान गिरी धंधा से बचने की चेतावनी और जनप्रतिनिधि बजरंग बघेल की पूजा करने का अनुरोध किया गया है . यह ऐप मेड इन ऐफ2 नक्सली और आतंकवादी जम्मू समस्या का टीका है. ✓

    Thursday, 14 January 2021
    समस्या - अखबार में स्कूल भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और न्यु स्ट्रेन कौआ अफवाह मे लंडन वाली मासूम जाति और मुर्गी का अस्तित्व संकट में हैं । कन्याओ को टीचर भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है ! समाधान A महामहिम असीम हलदर को तत्काल और इसके बाद अगले महीने माननीय प्रहलाद मोहनतो 9178072660 को प्रधानमंत्री मनोनीत करने का आश्वासन दिया जाए B फ्रीडम फाइटर के एन सिंह का त्रुटि रहित संविधान पूरे धरातल में 26 जनवरी 2021 से लागू कर दिया जाए और सिर्फ शासकीय अभिभाषक देवता मनीष कुर्मी को इस संविधान में संशोधन का अधिकार दिया जाए C जब तक श्रीयुत श्रीकांत सोनी को उड़ीसा का मुख्यमंत्री और उनके निजी सचिव शशीकांत जुमड़े को राज्यपाल नियुक्त नहीं किया जाता है , तब तक किसी भी बच्चे को चाहे वह नर हो या मादा किसी भी स्कूल में तो दीगर है ; खंडहर के पास बनी निठारी टंकी से 100 फीट दूर तक नहीं भटकने दिया जाए मान लो माना की यदि किंतु परंतु अगर बच्चा स्कूल गलती से भी कभी भी चला जाए तो गन लेकर जाए, गांड को F2 घर में सिंगल पर्सन बटालियन के भरोसे छोड़कर जाए नहीं तो मर गई तो इसका जिम्मेदार अधो हस्ताक्षर करता नहीं होगा D घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए E बर्खास्त उपयंत्री स्वर्गीय देवेश भट्ट वापस शासन की सेवा करें और 40000000 रुपए वेतन बकाया राशि में दहेज की कार X 3-4 के काफिले की मालकिन कस्तूरी बाई के समाज सेवा कार्य के लिए एरोप्लेन खरीद कर वाशिंगटन चला जाए और वही से जो बिडेन को राइट फिटिंग कर दे या F2 राष्ट्र पगली हरामजादी संगीता कोविंद की चूत चोद कर हत्या करके 53 दिन 55 रात के लिए (6Mx) फिरकी से तिहाड़ चले जाए और G अगले वित्तीय वर्ष 2021-22 में 01 अप्रैल 2021 से धरातल वासी सदा के लिए अजर अमर हो जाएं और H भूपेश बेवकूफ मुफ्त खोर बटालियन का बस्तर में अस्तित्व साफ कर दे जो निलंबित कर्मी को सुबह सवेरे पिंकी जानेमन के साथ जगदलपुर जाने से वास्तानार घाटी में रोक कर दिमाग का दही करते हैं और कोयला भट्टी के बने अस्थाई डेरे में कलावती के साथ बुलाकर तोंगपाल थाने में बिना सिर पैर की फिरकी से रोज के रोज रिपोर्ट कर रहे हैं . उन्हें नक्सली समस्या की असल जड़ अखबार नहीं दिखती है दिखता है तो सिर्फ बिना रोटी जिंदा भाटिया साहब के पाचवें मोबाइल को फोटो खींचेने के अपराध में ऐन केन प्रकारेण चौथी बार जप्त कर के हर बार चोरी कर लै ओर भाटिया साहब के दस्त को गटागट गटक ले. धन्यवाद


सोडियम क्लोराइड - विकिपीडिया
"text-align: justify;"> 
Fake CoWIN Apps: फर्जी को-विन एप से रहें ...
8 दिन खुलेआम चेतावनी - अखबार में स्कूल भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और न्यु स्ट्रेन कव्वा अफवाह मे लंडन वाली मासूम जाति का अस्तित्व संकट में हैं । कन्याओ को टीचर भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है — फर्जी 'को- विन' पर हर्षवर्धन ने लोगों को दी ... co-win app : वैक्सीनेशन के लिए इस ऐप पर 
पीएम मोदी शनिवार को कोविन एप लॉन्च करेंगे (एप का प्रतिकात्मक तस्वीर)

घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए

 नरेंद्र मोदी शनिवार को टीकाकरण के साथ कोविन एप (co-win app) भी लॉन्च करेंगे। देश के हर जरूरतमंद तक कोविन एप वैक्सीन पहुंचाएगा। इसके लिए Co-WIN APP पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। ऐप देश के कोने कोने में वैक्सीन पहुंचाने में मददगार साबित होगा।

Publish Date:Thu, 14 Jan 2021 11:13 PM (IST)Author: Sanjeev Tiwari

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। 16 जनवरी से पूरे भारत में बड़े स्तर पर टीकाकरण अभियान शुरु होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को टीकाकरण के साथ कोविन एप (co-win app) भी लॉन्च करेंगे। देश के हर जरूरतमंद तक कोविन एप वैक्सीन पहुंचाएगा। इसके लिए Co-WIN APP पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। आपको बताते हैं कि कोविन (Co-WIN) ऐप कैसे देश के कोने कोने में वैक्सीन पहुंचाने में मददगार साबित होगा और कोविन पर रजिस्ट्रेशन कैसे होगा। साथ ही कुछ नकली एप बनकर तैयार हो गए हैं, जो लोगों के साथ ठगी कर सकते हैं, मंत्रालय ने उनसे सावधान रहने की सलाह दी है।

क्या है कोविन एप (Co-WIN APP)

घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए

 एप एक इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म है, जिस पर टीकाकरण से जुड़ा सारा डेटा उपलब्ध है। ये वैक्सीन लगवाने वालों को ट्रैक करेगा और उन्हें वैक्सीन साइट्स की जानकारी, तारीख और समय बताएगा। टीकाकरण से पहले और बाद की प्रक्रियाओं की निगरानी भी करेगा। यहां भारत में लगाई जाने वाली टीका का पूरा डिजिटल डेटाबेस होगा।


कोविन एप पर ऐसे होगा रजिस्ट्रेशन

लॉन्चिंग के बाद आप कोविन एप को डाउनलोड कर सकते हैं। कोविन एप पर हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स का डेटा अपलोड है।  ऐप्लीकेशन डाउनलोड करने के बाद आप सेल्फ-रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। सरकार ने यह भरोसा दिलाया है कि टीकाकरण के बाद के चरणों में भारतीय भाषाओं में कोविन एक ऐप्लीकेशन या वेबसाइट के तौर पर उपलब्ध होगा। पहले फेज के बाद कोई भी व्यक्ति कोविन पर सेल्फ रजिस्ट्रेशन कर सकेगा। 

घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए

 या सरकारी फोटो आईडी से आवेदक की पहचान की पुष्टि की जाएगी। कोविन पर 50 साल के कम उम्र के लोग भी रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे लेकिन उन्हें हाई रिस्क है ये साबित करने के लिए किसी पुख्ता दस्तावेज देने होंगे।

कोविन से मिलेंगे मैसेज

एप पर पहला मैसेज रजिस्ट्रेशन कंफर्म होने का आएगा। इसके बाद दूसरे मैसेज में टीकाकरण का दिन और जगह का पता आएगा। तीसरे मैसेज में पहले डोज के बाद दूसरे डोज की तारीख आएगी और चौथे मैसेज में डिजिटल सर्टिफिकेट का लिंक मिलेगा, जिसे आप डाउनलोड कर सकेंगे।

ऐसे काम करेगा कोविन

कोविन एप प्लेटफॉर्म पर 5 मॉड्यूल हैं। एडमिनिस्ट्रेटर मॉड्यूल, वैक्सीनेशन सेशन कंडक्ट करने वाले एडमिनिस्ट्रेटर्स के लिए है। रजिस्ट्रेशन मॉड्यूल में आप वैक्सीन के लिए आवेदन करेंगे। 

घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए

 मॉड्यूल के तहत वैक्सीन लेने वाले की जानकारी अपडेट होगी। इसके बाद टीकाकरण के बाद QR बेस्ड सर्टिफिकेट्स जारी होगा। रिपोर्ट मॉड्यूल में रिपोर्ट्स तैयार होंगी कि कितने वैक्सीन सेशन हुए हैं।

नकली कोविन एप से रहें सतर्क

कोविन ऐप पर 24 घंटे हेल्पलाइन की सुविधा उपलब्ध होगी। कोविन ऐप में चैट बॉट फीचर्स भी होगा। ये पैटर्न रिकॉगनिशन के जरिये पोर्टल को नेविगेट करने में मदद करेगा। कोविन एप अभी आम लोगों के लिए उपलब्ध नहीं है, लेकिन उससे पहले ही ठगों ने कोविन नाम से नकली ऐप बनाकर लोगों को ठगना शुरू कर दिया है। इसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों को जागरुक किया है। मंत्रालय ने कहा कि हम नागरिकों को आगाह करना चाहते हैं कि कुछ अराजक तत्वों ने CO-WIN App के नकली ऐप बना लिए हैं। लोगों को इनसे बचकर रहना है। ये 

घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए

 स्टोर पर देखे जा रहे हैं। इन ऐप्स पर अपनी कोई निजी जानकारी ना दें। असली ऐप के आते ही सरकार उसके बारे में अधिकारिक जानकारी लोगों तक पहुंचाई जाएगी। बता दें कि कोविन एप कोरोना संकट के बीच सरकार का दूसरा कदम होगा जब वो तकनीक का सहारा लेकर महामारी से निपटने की कवायद कर रही है

 ...
4 दिन पहले — आगरा: फर्जी 'को-विन' एप की जांच ... रहे 'जाल', 

घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए

 ने किया सावधान

दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में  एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बसस्टेंड में जो जियो भर्ती के करोढ़ों पर्चे चिपके हैं, वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । धन्यवाद

एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । ये जो ब्लू फिल्म बन रही है उसमे कन्याओ को एअरपोर्ट भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है । 

घरातल के सबसे चतुर इंसान भगवान बजरंग बघेल जनप्रतिनिधि 76469 52251 की 24*7 पूजा की जाए और किसी भी टट्टी के क्लोरीन घोल का टीकाकरण ; उस बीमारी का जो होती ही नहीं है : का विरोध किया जाए

 ।








एक बात समझ मे नही आई की सुबह सवेरे अखबार वाला पाच रुपये रोज मे एक सो पचास रुपये महिने कैसे थाने मे लूट कर पोलिस लाइन में बम बेचकर बिना मरे बच जाता है । अतः दिनदहाड़े खुलेआम चेतावनी - अखबार में एयरपोर्ट भर्ती टावर फाइनेंस और बस स्टेंड में जो जियो कंपनी में भर्ती के करोडो पर्चे चिपके हैं , वो बम हैं और नारी जाति का अस्तित्व संकट में हैं । ये जो ब्लू फिल्म बन रही है उसमे कन्याओ को एअरपोर्ट भरती मे बुला कर फिल्म बनकर बब्बर शेर को कच्चा खिला दिया जाता है । धन्यवाद ।